Showing posts with label दुनिया का पहला 'स्मार्ट' नैनोकण. Show all posts
Showing posts with label दुनिया का पहला 'स्मार्ट' नैनोकण. Show all posts

रूसी वैज्ञानिकों ने गम्भीर रोगों के इलाज के लिए दुनिया का पहला 'स्मार्ट' नैनोकण

रूसी वैज्ञानिकों ने गम्भीर रोगों के इलाज के लिए दुनिया का पहला 'स्मार्ट' नैनोकण

रूसी वैज्ञानिकों ने चिकित्सा के क्षेत्र में नैनोरोबोटों की खोज करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। ये नैनोरोबोट शरीर मेंजैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं का उपयोग कर रोग का ठीक-ठीक निदान कर सकेंगे। इस नई प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करके रोगों केनिदान और गम्भीर रोगों के उपचार के नए तरीकों की खोज की जा सकेगी।


प्रोख़रोफ़ सामान्य भौतिकी संस्थान, शेम्याकिन और अवचेन्निकोफ़ जैव-आर्गेनिक रसायन संस्थान तथा मास्को के भौतिकी तकनीकी संस्थान के वैज्ञानिकों द्वारा मिलकर किए जा रहे इस अनुसन्धान की रिपोर्ट प्रमुख वैज्ञानिक पत्रिका ’नेचर नैनोटैक्नोलौजी’ में प्रकाशित हुई है।
अपने काम के बारे में बताते हुए वैज्ञानिकों ने लिखा है कि उनका यह अनुसन्धान जैवमोलेक्यूल की सहायता से बीमारी का पता लगाने के सिद्धान्त पर आधारित है। यदि इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में तार्किक तत्त्वों की मदद से करेण्ट के द्वारा या वोल्टेज़ के द्वारा क्रिया की जाती है तो जैव रासायनिक प्रणालियों में कोई ऐसा निश्चित तत्त्व सामने आएगा जो जैविक प्रणालियों पर उपचारात्मक प्रभाव दिखा सकता है। इस स्थिति में नैनोकणों की विशेष रूप से चयनित रचना बाहरी परत के माध्यम से कुछ निश्चित कार्यों को पूरा करेगी।
वैज्ञानिकों ने इन नैनोकणों को कैंसर कोशिकाओं के साथ लक्षित परिणाम प्राप्त करने के लिए इस्तेमाल करके दिखाया। वैज्ञानिकों का मानना है कि भविष्य में इस अतिरिक्त नियंत्रण के फलस्वरूप स्वस्थ ऊतकों और अंगों पर कम से कम प्रभाव डालते हुए कैंसर की कोशिकाओं का अधिक सटीक रूप से विनाश किया जा सकेगा।

sabhar: http://hindi.ruvr.ru/


CELL AS A BASIC UNIT OF LIFE