Vigyan India.com (विज्ञान इंडिया डाट कॉम ): ढूंढ़ने में मददगार कोशिका की खोज
Showing posts with label ढूंढ़ने में मददगार कोशिका की खोज. Show all posts
Showing posts with label ढूंढ़ने में मददगार कोशिका की खोज. Show all posts

ढूंढ़ने में मददगार कोशिका की खोज

clip

इनसान के मस्तिष्क में एक ऐसी कोशिका होती है, जो उसे किसी अपरिचित माहौल में अपनी जानी-पहचानी चीजों को ढूंढ़ने में मदद करती है. वैज्ञानिकों ने इनसान के दिमाग में एक नये प्रकार की कोशिका को खोज निकाली है, जो इनसान की रुचि और उसके अनुकूल चीजों को ढूंढ़ने में उसकी मदद करता है. पेनसिलवालिया यूनिवर्सिटी, ड्रेक्सेल यूनिवर्सिटी, यूसीएलए और थॉमस जैफरसन यूनिवर्सिटी की रिसर्च टीम ने मिल कर यह खोज की है. साइंस डेली में छपी एक खबर में बताया गया है कि हम जब किसी अपरिचित माहौल में खुद की रुचि से जुड़ी चीजों को ढूंढ़ने की कोशिश करते हैं तो इसमें ग्रिड सेल हमारी मदद करता है.
हमारे ढूंढ़ने का तरीका इसी सेल के व्यवहार पर निर्भर करता है. इस प्रकार से चीजों को ढूंढ़ने को विज्ञान की भाषा में पाथ नेविगेशन कहा जाता है. ड्रेक्सेल्स स्कूल ऑफ बायोमेडिकल इंजीनियरिंग, साइंस एंड हेल्थ सिस्टम्स में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर जोशुआ जैकब का कहना है कि ग्रिड पैटर्न के बारे में बताना थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि यह दृढ़ होता है. इस रिसर्च के दौरान दिमाग की कई तरह से रिकॉर्डिग की गयी, जिसमें 14 भागीदारों को शामिल किया गया.
इसमें बहुत सी चीजों को छिपा कर रखा गया और वहां मौजूद लोगों से अपनी रुचि के मुताबिक चीजों को ढूंढ़ने के लिए कहा गया. इस दौरान इन लोगों के मस्तिष्क और उनकी कोशिकाओं को रिकॉर्ड किया गया. रिसर्च टीम ने अध्ययन किया कि चीजों को ढूंढ़ने के दौरान भागीदारों के न्यूरॉन की गतिविधि कैसी रही.sabhar :http://www.prabhatkhabar.com/

CELL AS A BASIC UNIT OF LIFE