शनिवार, 22 जून 2013

एलियंस का पता लगाने के लिए भेजा मैसेज



वॉशिंगटन. ब्रह्माण्ड में एलियंस की मौजूदगी को लेकर हर किसी के मन में जिज्ञासा है। 17 जून को एलियंस को संदेश (लोन सिग्नल) भेजा गया। यह संदेश लोन सिग्नल प्रोजेक्ट के तहत भेजा गया है। इस प्रोजेक्ट के जरिए इंटरनेट यूजर्स बीम मैसेज भेज कर ब्रह्मांड में एलियंस की मौजूदगी का पता कर पाएंगे।
 
 
लोन सिग्नल प्रोजेक्ट के मुख्य मार्केटिंग ऑफिसर अर्नेस्टो क्वालिज्जा के मुताबिक अब हम जान सकेंगे कि ब्रह्मांड के किसी कोने पर एलियंस मौजूद हैं? विख्यात वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने भी कहा था कि एलियंस हमारी पृथ्वी के आसपास ही हैं। वे लगातार हमपर और हमारी गतिविधियों पर नजर भी रख रहे हैं।
 
 
ग्लीज-526 पर एलियंस की संभावना : हक-मिश्रा
 
प्रोजेक्ट के अंतर्गत वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में एक बिंदु चुना है। कैलिफोर्निया का जेम्सबर्ग अर्थ स्टेशन तारामंडल ग्लीज-526 को संदेश भेजेगा। पृथ्वी से ग्लीज 17.6 प्रकाश वर्ष दूर है। लोन सिग्नल ने प्रोजेक्ट के मुख्य साइंस ऑफिसर जैकब हक-मिश्रा के मुताबिक  वैज्ञानिकों को किसी भी ड्वार्फ का चक्कर लगाता कोई ग्रह नहीं मिला। वहीं ग्लीज-526 पर एलियंस के होने की संभावना हो सकती है। हक-मिश्रा और उनकी टीम ही यह निर्णय करेगी कि ये संदेश किस तारामंडल में भेजे जाएंगे।
 
 
जेम्सबर्ग स्टेशन
 
जेम्सबर्ग स्टेशन का रेडियो एंटीना 1968 में स्थापित किया गया था। लोन सिग्नल ने यह एंटीना 30 साल की लीज पर लिया है। भविष्य में लीज बढ़ाई जा सकती है।
 
ऐसा है संदेश
 
ग्लीज को संदेश भेजने के लिए विभिन्न प्रकार की वेव्स का उपयोग किया गया। माइकल बुश द्वारा तैयार अभिवादन वाले संदेशों में ब्रह्माण्ड में पृथ्वी की स्थिति, मैंडलीफ की आवर्त सारणी में उल्लिखित तत्व और हाइड्रोजन परमाणु के बारे में बताया गया है। 
 
 
हम कैसे भेज सकते हैं मैसेज
 
आप कई तरह से प्रोजेक्ट में हिस्सा ले सकते हैं। छोटा संदेश मुफ्त भेज सकते हैं। ज्यादा शब्दों का संदेश और फोटो भेजना चाहते हैं तो आपको करीब  56 रुपए चुकाने होंगे।
sabhar : bhaskar.com
 
 

3 टिप्‍पणियां:

vigyan ke naye samachar ke liye dekhe