सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बुढ़ापे का इलाज रोबॉट्स टेक्नॉलजी

50 सालों में रोबॉट्स से सेक्स करने लगेंगे इंसान, प्यार में भी पड़ सकते हैं: एक्सपर्ट


इंसान जल्द ही रोबॉट्स के साथ यौन संबंध बना सकेंगे। यह दावा एक वैज्ञानिक ने किया है। उनका कहना है कि आने वाले 50 सालों के अंदर रोबॉट से सेक्स हकीकत बन जाएगा।

यूनिवर्सिटी ऑफ संडरलैंड से ताल्लुक रखने वालीं डॉक्टर हेलन ड्रिस्कल ने कहा कि टेक्नॉलजी अडवांस होने से मशीनों के साथ हमारे इंटरैक्ट करने का तरीका भी बदल जाएगा। सेक्स की साइकॉलजी और रिलेशनशिप का ज्ञान रखने वालीं डॉक्टर ड्रिस्कल ने कहा, 'सेक्स टेक्नॉलजी तेजी से प्रगति कर रही है और 2070 तक शारीरिक रिश्ते बनने लगेंगे।'

डॉक्टर ने कहा, 'आप अभी से ही ऑनलाइन एक इंसान जैसे सेक्स टॉय को ऑर्डर कर सकते हैं। आने वाले सालों में रोबॉटिक, मोशन सेसिंग और इंटरैक्टिव टेक्नॉलजी और बेहतर हो जाएगी। इस टेक्नॉलजी की मदद से ये पुतलों जैसे सेक्स टॉय जिंदा हो जाएंगे।'

डॉक्टर ड्रिस्कल ने कहा, 'हो सकता है कि लोग अपने वर्चुअल रिऐलिटी पार्टनर्स से मोहब्बत करने लगें।' गौरतलब है कि हाल ही में आई फिल्म 'हर' (Her) में भी इस विषय को उठाया गया था, जिसमें कैरक्टर ऑपरेटिंग सिस्टम से प्यार करने लगता है।

डॉक्टर ने कहा, 'बहुत संभव है कि लोग अपने ऐसे रोबॉट पार्टनर से प्यार करने लगें। क्योंकि लोग तो कई बार ऐसे काल्पनिक पात्रों से प्यार करने लगते हैं, जिनसे वे कभी मिल नहीं सकते।'

इस कंपनी को अब रोबॉट ही चलाएंगे

अब तक हम यह कल्पना ही करते रहे हैं कि एक दिन इंसान के सभी काम रोबॉट करेगा, लेकिन चीन में यह सच होने वाला है। चीन के दोंगगुयान की कंपनी शानगियिंग प्रिसिसन टेक्नॉलजी में किसी भी काम के लिए आने वाले दिनों में इंसान की जरूरत ही नहीं होगी । एक वर्कशॉप के दौरान सेलफोन बनाने वाली कंपनी ने बताया कि 10 प्रॉड्क्शन लाइनस में 60 रोबॉट तैनात किए गए हैं। हर लाइन में सिर्फ तीन कर्मचारी काम की चेकिंग के लिए रखे गए हैं।

लेकिन आने वाले दिनों में कंपनी में ट्रकों का संचालन, वेयरहाउसिंग और मशीनरी काम समेत सारा काम कंप्यूटर द्वारा संचालित रोबॉट्स के जरिए ही होगा। इन रोबोटों को दिशानिर्देश देने के लिए कुछ ही इंसानी कर्मचारियों की जरूरत होगी। टेक्निकल स्टाफ के लोग अपनी सीट पर बैठे ही सेंट्रल कंट्रोल सिस्टम के जरिए कंपनी के पूरे काम पर निगरानी रखेंगे।

पीपल्स डेली के मुताबिक कुछ महीने पहले कंपनी में पूरे काम के लिए 650 कर्मचारी थे, लेकिन एक रोबॉट छह से आठ लोगों तक का काम कर सकता है। ऐसे में फिलहाल कंपनी में सिर्फ 60 कर्मचारी ही बचे हैं। शानगियिंग प्रिसिसन टेक्नॉलजी के जनरल मैनेजर लुओ विकियांग ने बताया कि आने वाले दिनों में हमें सिर्फ 20 लोगों की ही जरूरत होगी।

कंपनी के प्रेसिडेंट शेन किक्सिंग के मुताबिक यह 'रोबॉट रिप्लेस ह्यूमन प्रोग्राम' का पहला चरण है। भविष्य में कंपनी में रोबॉट्स की संख्या 1,000 के करीब होगी और कंपनी का 80 फीसदी काम रोबोट के जरिए ही होगा। प्रशिक्षित कर्मियों के मुकाबले यह रोबॉट काफी तेजी से काम कर सकेंगे। कंपनी की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक रोबॉट्स को काम पर लगाए जाने के बाद से डिफेक्ट रेट में काफी कमी आई है। इसके अलावा प्रॉडक्शन भी आठ हजार पीस से बढ़कर 21 हजार तक जा पहुंचा है।

इंसानों के साथ भी शारीरिक रिश्ते बना सकेंगे रोबॉट, पैदा करेंगे बच्चे!


दन
आपने रजनीकांत की रोबॉट फिल्म तो देखी होगी। इसमें रोबॉट बने रजनीकांत का उसके साथी मजाक बनाते हैं कि वह सेक्स नहीं कर सकता, इसलिए वह इंसानों जैसा नहीं है। लेकिन जरा सोचिए क्या हो, अगर रोबॉट भी सेक्स करने लगें और बच्चे पैदा करने लगें। हालांकि इंजीनियर और नोवेलिस्ट जॉर्ज जैरकैडाकिस का मानना है कि अगले 20-30 साल में ऐसा संभव है। जॉर्ज के मुताबिक, भविष्य में रोबॉट न सिर्फ दूसरे रोबॉट के साथ सेक्स कर सकेंगे, बल्कि इंसानों के साथ भी शारीरिक रिश्ते बना सकेंगे।

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस इंजीनियर जॉर्ज का मानना है कि ऐसा करने से बेहतर रोबॉट पैदा होंगे। उनके मुताबिक, रोबॉट के इंसानों के साथ संबंध बनाने से हाइब्रिड प्रजाति विकसित होगी। रोबॉट और आर्टिफिशल इंटेलिजेंस के विशेषज्ञों के अनुसार, यह किसी साइंस फिक्शन फिल्म की कहानी नहीं है बल्कि वर्तमान में ही ऐसे रिसर्च और तकनीक उपलब्ध हैं, जिससे ऐसा संभव हो सकता है। हालांकि, विशेषज्ञों को भी इसके बुरे प्रभाव को लेकर चिंता है। विशेषज्ञ मानते हैं कि अगर रोबॉट इंसानों से ज्यादा पैदा होने लगे, तो वह समय बुरे सपने से कम नहीं होगा।

बच्चे पैदा नहीं, प्रिंट होंगे: रोबॉट के विकास से जुड़े वैज्ञानिकों की अगर मानें तो यह रोबॉट बच्चे पैदा नहीं प्रिंट करेंगे। शेफील्ड यूनिवर्सिटी के आर्टिफिशल इंटेलिजेंस और रोबॉटिक्स के प्रफेसर नोएल शार्की के अनुसार, रोबॉट 3-डी तकनीक का इस्तेमाल कर बच्चों को जन्म दे सकते हैं। नोएल के अनुसार, रोबॉट अपने सॉफ्टवेयर में बदलाव लाकर सेक्स के दौरान अपनी खूबियों को बढ़ा या एक्सचेंज कर सकते हैं। उनके बच्चों में इन खूबियों का मिश्रण देखने को मिल सकता है। इन रोबॉट के पास कार्बन और सिलिकन से बना डिजिटल दिमाग होगा।


वायरस से भी होगी सुरक्षा: विशेषज्ञों का तो यहां तक मानना है कि रोबॉट द्वारा सेक्स करने से उनके सॉफ्टवेयर वायरस से भी बचे रहेंगे। ठीक उसी तरह जैसे सेक्स करने से मनुष्यों को कई संक्रमित बीमारियां नहीं होतीं।

बुढ़ापे का इलाज: वैज्ञानिकों के अनुसार इन रोबॉट-इंसानों के हाइब्रिड की दिशा में हो रही रिसर्च से बुढ़ापे के बारे में भी और जानकारी मिल सकती है। यह रिसर्च इंसानी शरीर को जानने की दिशा में लाभदायक होगी और यह जाना जा सकेगा कि बुढ़ापे के लिए जिम्मेदार अल्टशाइमर्त्स बीमारी का असर इंसानी दिमाग पर किस तरह और कितना होता है। प्रफेसर वार्विक ने कहा कि रोबॉट का एक दूसरे से सेक्स करना और रोबॉट पैदा करना सामाजिक स्वीकार्यता पर भी निर्भर करेगा। 20 साल के बाद जब यह पूरी तरह से संभव हो जाएगा तब इस तकनीक को स्वीकार करने मे नैतिक दिक्कते आएंगी। वैसे वैज्ञानिकों की इस रिसर्च से काफी उम्मीदें हैं। वैज्ञानिका जॉर्ज डायसन का मानना है कि ऐसे रोबॉट शनि के चांद एनक्लेडस से मंगल ग्रह पर बर्फ लाने में मदद कर सकते हैं।

गुजरात में बनाया जा रहा सुपर ह्यूमन 'रजनीकांत'

रजनीकांत के सुपर ह्यूमन जोक्स अब रिऐलिटी में तब्दील होने वाले हैं। फिल्म 'रोबॉट' में रजनीकांत के एक ख्वाब को जल्द ही आप जल्द ही साकार होते देखेंगे। देश का पहला सुपर ह्यूमन रोबॉट लैब से निकलकर असली दुनिया में कदम रखने वाला है।

गुजरात फॉरेंसिक साइंसेज यूनिवर्सिटी का दावा है कि यहां देश का पहला इंटरैक्टिव और मल्टी परपस रोबॉटिक सूट और रोबॉट बनाया जा रहा है, ठीक वैसा ही जैसा रजनीकांत की फिल्म में आपने देखा था। इस रोबॉटिक सूट को पहनकर कोई भी इंसान 200 किलोग्राम का वजन भी आसानी से उठा सकेगा।

दरअसल, इंस्टीट्यूट ऑफ बिहेविरल साइंस और गुजरात फॉरेंसिक साइंसेज यूनिवर्सिटी का रिसर्च सेंटर एक्सॉनेट साथ मिलकर एक ऐसे प्रॉजेक्ट पर काम कर रहे हैं, जिसका नाम बायोरोबॉटिक्स रखा गया है।

गुजरात फॉरेंसिक साइंसेज यूनिवर्सिटी के अधिकारियों का कहना है कि प्रोटोटाइप तैयार किया जा चुका है। अब इसके ब्रेन इंटरफेस और सिक्यॉरिटी सिस्टम पर काम किया जा रहा है। उनका मानना है कि पिछले साल शुरू हुआ यह प्रॉजेक्ट 2017 तक पूरा कर लिया जाएगा। योजना यह भी कि डीआरडीओ के साथ मिलकर भविष्य में इसका इस्तेमाल डिफेंस सेक्टर को भी मजबूत करने के लिए किया जाए।

क्या है यह रोबॉट
दरअसल, इन रोबॉटिक सूट्स या फ्रेम्स को 'एक्सोस्केलिटन' कहते हैं और इसमें लगे मोटर्स और अत्याधुनिक सेंसर्स किसी भी इंसान की क्षमता को कई गुना बढ़ा देते हैं। अगर आपने हॉलिवुड फिल्म 'आयरनमैन' देखी है, तो यह सूट काफी हद तक वैसा ही होगा। ये रोबॉट्स न सिर्फ देखेंगे, बल्कि इनमें सुनने और समझने की भी क्षमता होगी।

किन कामों में होगा मददगार
इन सूट्स और रोबॉट्स की मदद रोजाना के काम में तो लिया ही जा सकेगा, साथ ही ये भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं के समय फायरफाइटर्स का काम भी करेंगे। इसके अलावा, केमिकल लीक पर काबू पाने के लिए और बम डिस्पोज करने में भी इनकी मदद ली जा सकेगी। इतना ही नहीं, इनका इस्तेमाल अस्पतालों, फैक्ट्रियों और घरों में भी किया जा सकेगा। आपको जानकर हैरानी होगी कि रोबॉटिक सूट्स को इस तरह तैयार किया जा रहा है कि लंबी सर्जरी करने वाले डॉक्टर्स इसे पहनकर आसानी से बिना थके सर्जरी कर पाएंगे।


sabhar :http://navbharattimes.indiatimes.com/


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

vigyan ke naye samachar ke liye dekhe

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

30 सेकंड के फर्क ने मिटा दिया था डायनसोर युग का वजूद

डायनासोर युग के अंत के लिए कहा जाता है कि एक बहुत बड़ा ऐस्टरॉइड धरती से टकराया था जिससे पैदा हुए विस्फोट ने इन विशालकाय जानवरों का वजूद खत्म कर दिया। लेकिन इस विस्फोट की टाइमिंग को लेकर बीबीसी की एक डॉक्युमेंट्री में बहुत दिलचस्प तथ्य सामने आया है। द डे डायनासोर डाइड नाम की इस डॉक्युमेंट्री में बताया गया है कि जिस ऐस्टरॉइड ने डायनासोरों का अंत किया, अगर वह धरती से 30 सेकंड जल्दी (पहले) या 30 सेकंड देर (बाद) से टकराता तो उसका असर जमीनी भूभाग पर इतना कम होता कि डायनासोर खत्म नहीं होते। ऐसा इसलिए क्योंकि 30 सेकंड की देरी या जल्दी गिरने की स्थिति में वह जमीन की बजाय समुद्र में गिरता।

यह ऐस्टरॉइड 6.6 करोड़ साल पहले मेक्सिको के युकटॉन प्रायद्वीप से टकराया था जिससे वहां 111 मील चौड़ा और 20 मील गहरा गड्ढा बन गया था। वैज्ञानिकों ने इस गड्ढे की जांच की तो वहां की चट्टान में सल्फर कम्पाउन्ड पाया गया। ऐस्टरॉइट की टक्कर से यह चट्टान वाष्प में बदल गई थी जिसने हवा में धूल का बादल बना दिया था। इसके परिणामस्वरूप पूरी धरती नाटकीय रूप से ठंडी हो गई और पूरे एक दशक तक इसी स्थिति में रही। उन हालात में अधिकत…

स्मरण शक्ति में सुधार

बहुत अधिक संख्या में ऐसे लोग हैं जो प्राय: अपनी कमजोर स्मरण क्षमता को लेकर चिंतित रहते हैं। जब वे किसी का पक्ष या सामने वाले व्यक्ति का नाम तक भूल जाते हैं तो उन्हें और भी बुरा लगता है। ऐसा उनके साथ भी होता है, जिनके पास पहले अच्छी स्मरण शक्ति थी। हमें याद रखना चाहिए कि स्मरण शक्ति एक बैंक की तरह है। यदि इसमें कुछ डालेंगे, तभी तो निकाल सकेंगे। यह मान कर चलें कि आपकी स्मरण शक्ति तीव्र है, स्वयं से सकारात्मक अपेक्षा रखें। यदि मानेंगे कि आपका दिमाग काम नहीं करता, याददाश्त हाथ से निकल गई है तो दिमाग भी यही मानने लगेगा। हमारी स्मरण शक्ति इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपने पहले किसी घटना को कितनी रुचि व महत्व दिया है। जब हम किसी व्यक्ति या घटना से आकर्षित होते हैं तो उस पर अधिक ध्यान देते हैं। तब ऐसे व्यक्ति या घटना को याद करना आसान हो जाता है। अच्छी स्मरण शक्ति स्कूल, कॉलेज व जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में काम आती है। इसकी मदद से हम नई व उन्नत तकनीकों तथा परिवर्तनों को तेजी से आत्मसात कर पाते हैं। कंप्यूटर में कोई चिप या सॉफ्टवेयर लगा कर उसकी मैमरी सुधार सकते हैं। मस्तिष्क की संरचना कंप्यू…

समय क्या है ? समय का निर्माण कैसे होता है?

भौतिक वैज्ञानिक तथा लेखक पाल डेवीस के अनुसार “समय” आइंस्टाइन की अधूरी क्रांति है। समय की प्रकृति से जुड़े अनेक अनसुलझे प्रश्न है। समय क्या है ?समय का निर्माण कैसे होता है ?गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से समय धीमा कैसे हो जाता है ?गति मे समय धीमा क्यों हो जाता है ?क्या समय एक आयाम है ?अरस्तु ने अनुमान लगाया था कि समय गति का प्रभाव हो सकता है लेकिन उन्होने यह भी कहा था कि गति धीमी या तेज हो सकती है लेकिन समय नहीं! अरस्तु के पास आइंस्टाइन के सापेक्षतावाद के सिद्धांत को जानने का कोई माध्यम नही था जिसके अनुसार समय की गति मे परिवर्तन संभव है। इसी तरह जब आइंस्टाइन साधारण सापेक्षतावाद के सिद्धांत के विकास पर कार्य कर रहे थे और उन्होने क्रांतिकारी प्रस्ताव रखा था कि द्रव्यमान के प्रभाव से अंतराल मे वक्रता आती है। लेकिन उस समय आइंस्टाइन  नही जानते थे कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। ब्रह्माण्ड के विस्तार करने की खोज एडवीन हब्बल ने आइंस्टाइन द्वारा “साधारण सापेक्षतावाद” के सिद्धांत के प्रकाशित करने के 13 वर्षो बाद की थी। यदि आइंस्टाइन को विस्तार करते ब्रह्माण्ड का ज्ञान होता तो वे इसे अपने साधारण …