सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नौकरियां छीन लेंगे क्या रोबोट

रोबोटअगर आपको डर लगता है कि रोबोटों का वक़्त आने वाला है तो डरने की ज़रूरत नहीं. वो पहले से ही हमारे बीच मौजूद हैं.

आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) के प्रतिनिधि पहले ही हमारी ज़िंदगी के हर पहलू में शामिल हैं- वह हमारे इनबॉक्स को स्पैम मुक्त रखते हैं, वह इंटरनेट के प्रयोग में मदद करते हैं, वह हमारे हवाई जहाज़ चलाते हैं और अगर गूगल को सफ़लता मिली तो जल्द ही वे हमारे लिए हमारी गाड़ियां भी चलाएंगे.
सिलिकॉन वैली के सिंगुलैरिटी विश्वविद्यालय में आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस के प्रमुख, नील जैकबस्टीन ने बीबीसी से कहा, "आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस हमारी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में बसी हुई है."
वे कहते हैं, "इसका इस्तेमाल दवाइयों, कानून, डिज़ाइन बनाने में और पूरी तरह स्वचालित उद्योग में होता है."
और हर दिन अल्गोरिद्म पहले से ज़्यादा चतुर होती जा रही है.
इसका मतलब यह है कि आधुनिक दुनिया की सबसे बड़ी चाहत- ऐसी मशीन की खोज, जो इंसानों जितनी ही बुद्धिमान हो- पूरा होने के बेहद करीब हो सकती है.
जैकबस्टीन का अनुमान है कि आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस 2020 के दशक के मध्य तक इंसानी बुद्धिमत्ता से आगे निकल जाएगी. लेकिन इससे सवाल उठता है- मशीनी बुद्धि के प्रभाव वाला समाज कैसा होगा और हमारी इसमें भूमिका क्या होगी?

रोबोट नौकरियां चुराएंगे?

वैसे शुरुआत में हमें थोड़ा ठहर कर देखना होगा.
दुनिया की सबसे बड़ी कॉन्ट्रैक्ट इलेक्ट्रॉनिक निर्माता, चीनी कंपनी हॉन हाए ने ऐलान किया है कि वह एक रोबॉट बनाने वाली फ़ैक्ट्री बनाएगी और अगले तीन साल में पाँच लाख कर्मचारियों की जगह रोबोट ले लेंगे.
रोबोट
लेकिन नौकरी नहीं रहने का मतलब होगा पगार का न मिलना और ऐसे समाज के लिए यह बहुत बड़ी बात होगी जो अपना जीवन चलाने के लिए पगार पर निर्भर रहने का आदी है.
जैकबस्टीन कहते हैं, "आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस से उल्लेखनीय रूप से बेरोज़गारी बढ़ेगी लेकिन यह ग़रीबी के बराबर नहीं होगी."
जैकबस्टीन भी मानते हैं, "आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस और तेज़ी से विकसित हो रही दूसरी तकनीकों से भारी मात्रा में संपत्ति पैदा होगी. हमें उसके बंटवारे को लेकर अपने सामाजिक ताने-बाने को बदलने को तैयार होना होगा."
वह उम्मीद ज़ाहिर करते हैं कि इंसान और मशीन पूरी तरह शांति से एक दूसरे के साथ मिलकर काम करेंगे.
वह कहते हैं, "किसी भी समस्या के समाधान का सबसे अच्छा तरीका होगा कि उसे एक इंसान और एक कंप्यूटर एक साथ मिलकर हल करें."
"विकसित रूप में, एआई अणु के विखंडन से भी ज़्यादा ख़तरनाक और विस्फ़ोटक हो जाएगी. अभी से ही स्वायत्त ड्रोन और लड़ाई में काम आने वाले रोबोट्स के रूप में इसका हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है."
जेम्स बैरेट, लेखक और डॉक्यूमेंट्री-निर्माता
लेखक और डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म निर्माता जेम्स बैरेट आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस के बारे में बिल्कुल अलग राय रखते हैं. आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस के घातक हमले के बारे में वह इतने चिंतित हैं कि उन्होंने इस पर एक किताब लिख डाली है. आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस के बढ़ते प्रभाव का मतलब है मनुष्य के प्रभुत्व का ख़त्म हो जाना.

इंसान जैसे रोबोट

बैरेट ने बीबीसी से कहा, "विकसित आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस एक दोनों तरह से इस्तेमाल होने वाली तकनीक है, अणु के विखंडन की तरह. यह शहरों को प्रकाश भी दे सकती है और उन्हें भस्म भी कर सकती है. विकसित रूप में, आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस अणु के विखंडन से भी ज़्यादा ख़तरनाक और विस्फ़ोटक हो जाएगी. अभी से ही स्वायत्त ड्रोन और लड़ाई में काम आने वाले रोबोट्स के रूप में इसका हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है."
वह कहते हैं, "किसी भी अन्य विज्ञान से ज़्यादा यह हमें अपने अंदर झांकने को कहती है- वे चीज़ें क्या हैं जिन्हें हम बुद्धिमत्ता, अंतरआत्मा, भावनाएं कहते हैं? लेकिन अपने अंदर झांककर हम अतार्किक हिंसा, तकनीकी लापरवाही के प्रति अपने झुकाव को बेहतर ढंग से देख पाते हैं."
अगर पेंटागन के शोध विभाग डार्पा की दिसंबर में आयोजित प्रतियोगिता के आधार पर देखें तो रोबोटिक क्रांति अभी काफ़ी दूर है.
ऑनलाइन पोस्ट किए गए वीडियो से दिखता है कि रोबोट इंसानों से बहुत धीमे हैं, अक्सर अपने पैरों पर संतुलन बनाए रखने में नाकाम रहे और कुछ तो किसी भी चुनौती को पूरा नहीं कर पाए.
यकीनन रोबोटों और कृत्रिम बुद्धिमत्ता को लेकर एक तरह की अतिउत्सुकता है. गूगल ने हाल ही में आठ रोबोटिक कंपनियों को ख़रीदा है तो फ़ेसबुक की अपनी आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस प्रयोगशाला है.
गूगल रोबोट
कयास इस बात को लेकर लग रहे हैं कि गूगल अपने अधिग्रहणों से क्या करना चाहता है.
बैरेट को लगता है कि गूगल रोबोट बहुत शानदार हो सकते हैं.
वह कहते हैं, "इंसान के स्तर की बुद्धिमत्ता तक पहुंचने का एक रास्ता है. एक उच्च स्तर का निजी सहायक जो सिर्फ़ एक स्मार्टफ़ोन नहीं होगा- बल्कि इसका एक इंसान जैसा शरीर भी होगा. इंसान के जैसा क्यों? ताकि यह आपकी गाड़ी चला सके, आपके उपकरणों का इस्तेमाल कर सके, बच्चे को खिला सके और ज़रूरत पड़े तो आपके बॉडीगार्ड का भी काम करे."

रोबोटों से मुकाबला

अगर रोबोट्स का उभरना अपरिहार्य है- हालांकि इसमें कुछ साल की देरी है- तो फिर यह भी तार्किक है कि इंसान अंततः फ़ैसले लेने की प्रक्रिया से पूरी तरह बाहर हो जाएंगे, मतलब यह कि कृत्रिम बुद्धिमान उपकरण ही दूसरे आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस को नियंत्रित करेंगे.
जैकबस्टीन कहते हैं कि हमारे लैपटॉप और कंप्यूटर में यही हो रहा है.
दिमाग में सिलकॉन
रोबोट का मुकाबला करने के लिए इंसान को उनके जैसा बनना होगा.
वह कहते हैं, "एंटी वायरस सॉफ़्टवेयर दरअसल एक आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस तकनीक है जो दूसरे आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस, जिन्हें हम वायरस और वॉर्म्स कहते हैं, उन्हें ढूंढने के लिए इस्तेमाल की जाती है."
वे कहते हैं, "हमें रोबोट्स को नियंत्रण में रखने के लिए उसी तरह की कई परत वाली प्रणाली तैयार करनी होगी जैसी कि इंसानों की रोज़मर्रा की ज़िंदगी में है. हम ख़तरों पर नज़र रखना और ऐसी प्रणाली तैयार करना चाहते हैं जो ग़लत व्यवहार को रोके."
जैकबस्टीन रोबोटों के कब्ज़ा करने को लेकर आशान्वित हैं लेकिन वह यह भी जानते हैं बहुत से इसे एक बुरे सपने की तरह देखते हैं.
वह कहते हैं, "कुछ लोग पूछते हैं, आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस की संभावनाओं को जानने के बाद भी आप रात को सो कैसे सकते हैं? लेकिन मैं रातों को आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस की वजह से नहीं इंसानी मूर्खताओं की वजह से जगा रहता हूं."
उनके हिसाब से इंसान रोबोटों के साथ तभी मुकाबले में बना रहेगा जब वह उनकी तरह हो जाए.
वह कहते हैं, "हमारे दिमाग में करीब 50,000 साल से कोई महत्वपूर्ण सुधार नहीं हुआ है और अगर लैपटॉप या स्मार्टफ़ोन में पांच साल में कोई अपग्रेड नहीं होता तो आपको उनके बारे में चिंता होने लगती है."

हमारे पास अब भी सिरी और गूगल नाउ जैसी कृत्रिम बुद्धिमत्ता है और वह हमारे स्मार्टफ़ोन के ज़रिए लगातार वेब से कनेक्ट रहती है तो यह कल्पना करना बहुत बड़ी बात नहीं होगी कि भविष्य में हमारी खोपड़ी में भी सिलिकॉन लगाए जाएंगे.
और यही अकेला तरीका है रोबोटों से मुकाबला करने का. sabhar :http://www.bbc.co.uk/

टिप्पणियाँ

  1. The Air Jordan 6 GS Purple Dynasty is a gradeschool exclusive Air Jordan 6 that will be closing out the month of December.Dressed in a Purple Dynasty and Cheap Jordans White color scheme. This Air Jordan 6 features a full Purple nubuck upper with White on the midsole sitting atop a clear outsole.Look for the Air Jordan 6 Cheap Jordans GS “Purple Dynasty” to release on December 30th, 2016 at select Jordan Brand retail stores. The retail price tag is set at $140 USD.
    The Air Jordan 6 Jordan shoes Heiress will release as part of the Air Jordan Heiress Collection for 2017 that includes the Air jordan 11 bred Jordan 1.Dressed in a clean Black and White color scheme. This Air Jordan 6 comes built with a premium material construction. Having a combination of suede and shiny leather upper that’s fully dressed in Black. Finishing off the look is a clean White midsole with an icy outsole that has Cheap Jordans a Black Jumpman logo.Look for the Air Jordan 6 GS Premium Heiress to release on February 17, 2017 at select Jordan Brand retail stores. The retail price tag Jordan 1 is set at $160 USD.
    The Air Jordan 11 Low Barons will be a brand new low-top Air Jordan 11 debuting this Spring 2017.Dressed in a Birmingham Barons-style Jordan 11 Georgetown having a Black, Metallic Silver and White color scheme. This Air Jordan 11 Low a Black nubuck upper with matching Black leather heels. An iridescent-like patent leather overlays Cheap Jordans for sale the mudguard, while sitting atop a White midsole. Metallic Silver branding and a milky translucent outsole completes the look.Look for the Air Jordan 11 Low “Barons” to release

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

vigyan ke naye samachar ke liye dekhe

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

30 सेकंड के फर्क ने मिटा दिया था डायनसोर युग का वजूद

डायनासोर युग के अंत के लिए कहा जाता है कि एक बहुत बड़ा ऐस्टरॉइड धरती से टकराया था जिससे पैदा हुए विस्फोट ने इन विशालकाय जानवरों का वजूद खत्म कर दिया। लेकिन इस विस्फोट की टाइमिंग को लेकर बीबीसी की एक डॉक्युमेंट्री में बहुत दिलचस्प तथ्य सामने आया है। द डे डायनासोर डाइड नाम की इस डॉक्युमेंट्री में बताया गया है कि जिस ऐस्टरॉइड ने डायनासोरों का अंत किया, अगर वह धरती से 30 सेकंड जल्दी (पहले) या 30 सेकंड देर (बाद) से टकराता तो उसका असर जमीनी भूभाग पर इतना कम होता कि डायनासोर खत्म नहीं होते। ऐसा इसलिए क्योंकि 30 सेकंड की देरी या जल्दी गिरने की स्थिति में वह जमीन की बजाय समुद्र में गिरता।

यह ऐस्टरॉइड 6.6 करोड़ साल पहले मेक्सिको के युकटॉन प्रायद्वीप से टकराया था जिससे वहां 111 मील चौड़ा और 20 मील गहरा गड्ढा बन गया था। वैज्ञानिकों ने इस गड्ढे की जांच की तो वहां की चट्टान में सल्फर कम्पाउन्ड पाया गया। ऐस्टरॉइट की टक्कर से यह चट्टान वाष्प में बदल गई थी जिसने हवा में धूल का बादल बना दिया था। इसके परिणामस्वरूप पूरी धरती नाटकीय रूप से ठंडी हो गई और पूरे एक दशक तक इसी स्थिति में रही। उन हालात में अधिकत…

स्मरण शक्ति में सुधार

बहुत अधिक संख्या में ऐसे लोग हैं जो प्राय: अपनी कमजोर स्मरण क्षमता को लेकर चिंतित रहते हैं। जब वे किसी का पक्ष या सामने वाले व्यक्ति का नाम तक भूल जाते हैं तो उन्हें और भी बुरा लगता है। ऐसा उनके साथ भी होता है, जिनके पास पहले अच्छी स्मरण शक्ति थी। हमें याद रखना चाहिए कि स्मरण शक्ति एक बैंक की तरह है। यदि इसमें कुछ डालेंगे, तभी तो निकाल सकेंगे। यह मान कर चलें कि आपकी स्मरण शक्ति तीव्र है, स्वयं से सकारात्मक अपेक्षा रखें। यदि मानेंगे कि आपका दिमाग काम नहीं करता, याददाश्त हाथ से निकल गई है तो दिमाग भी यही मानने लगेगा। हमारी स्मरण शक्ति इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपने पहले किसी घटना को कितनी रुचि व महत्व दिया है। जब हम किसी व्यक्ति या घटना से आकर्षित होते हैं तो उस पर अधिक ध्यान देते हैं। तब ऐसे व्यक्ति या घटना को याद करना आसान हो जाता है। अच्छी स्मरण शक्ति स्कूल, कॉलेज व जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में काम आती है। इसकी मदद से हम नई व उन्नत तकनीकों तथा परिवर्तनों को तेजी से आत्मसात कर पाते हैं। कंप्यूटर में कोई चिप या सॉफ्टवेयर लगा कर उसकी मैमरी सुधार सकते हैं। मस्तिष्क की संरचना कंप्यू…

समय क्या है ? समय का निर्माण कैसे होता है?

भौतिक वैज्ञानिक तथा लेखक पाल डेवीस के अनुसार “समय” आइंस्टाइन की अधूरी क्रांति है। समय की प्रकृति से जुड़े अनेक अनसुलझे प्रश्न है। समय क्या है ?समय का निर्माण कैसे होता है ?गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से समय धीमा कैसे हो जाता है ?गति मे समय धीमा क्यों हो जाता है ?क्या समय एक आयाम है ?अरस्तु ने अनुमान लगाया था कि समय गति का प्रभाव हो सकता है लेकिन उन्होने यह भी कहा था कि गति धीमी या तेज हो सकती है लेकिन समय नहीं! अरस्तु के पास आइंस्टाइन के सापेक्षतावाद के सिद्धांत को जानने का कोई माध्यम नही था जिसके अनुसार समय की गति मे परिवर्तन संभव है। इसी तरह जब आइंस्टाइन साधारण सापेक्षतावाद के सिद्धांत के विकास पर कार्य कर रहे थे और उन्होने क्रांतिकारी प्रस्ताव रखा था कि द्रव्यमान के प्रभाव से अंतराल मे वक्रता आती है। लेकिन उस समय आइंस्टाइन  नही जानते थे कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। ब्रह्माण्ड के विस्तार करने की खोज एडवीन हब्बल ने आइंस्टाइन द्वारा “साधारण सापेक्षतावाद” के सिद्धांत के प्रकाशित करने के 13 वर्षो बाद की थी। यदि आइंस्टाइन को विस्तार करते ब्रह्माण्ड का ज्ञान होता तो वे इसे अपने साधारण …