सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

किसी भी भाषा को ट्रांसलेट कर देगा ये इंटेलिजेंट चश्मा



टोक्यो. जापान ने एक ऎसा चश्मा तैयार किया है जिसको पहनकर आप किसी भी भाषा को आसानी से पढ सकते हैं, क्योँकि यह चश्मा किसी भी भाषा को ट्रांसलेट कर आपके सामने पेश कर सकता है और आप आसानी से इस चश्मे को पहनकर किसी भी भाषा को आसानी से पढ सकते हैं. आपकी जानकारी के लिये बता दें कि यह चश्मा पर्यटकों के लिए वरदान साबित हो सकता है. इस तकनीक से विदेश यात्रा करने वाले पर्यटकों, रेस्त्रां का मैन्यू और अन्य दस्तावेज को तुरंत पढने में सहायता मिलेगी. जापान की एक बडी मोबाइल ऑपरेटर कंपनी का कहना है कि उसने एक ऎसा चश्मा तैयार किया है जो अपरिचित शब्दों की एक सूची का अनुवाद कर सकता है. खबर के अनुसार कंपनी का कहना है कि उसका यह इंटेलीजेंट चश्मा किसी भी अपरिचित शब्दों की अनुवादित छवि पेश कर सकता है.
यह चश्मा देखने के काम आने के साथ-साथ आभासी चित्रों की भी हेरफेर करने में सहायक है. कंपनी के अनुसार इस तकनीक को जापान के एक कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक शो सीटैक-2013 में प्रदर्शित किया जाएगा. कंपनी का कहना है कि यह चश्मा, जिस पर अभी शोध जारी है, उपभोक्ता की अपनी भाषा में अनुवादित विषयवस्तु प्रस्तुत कर सकता है.
गूगल ने स्मार्ट ग्लासेज यानी स्मार्ट चश्मे को एक वीडियो के जरिए आम लोगों के बीच पेश किया है. इस चश्मे के जरिए जापानी, अंग्रेजी, चीनी और कोरियाई भाषाओं में अनुवाद किया जा सकता है. जबकि किसी भी भाषा में अनुवाद के लिए पांच सेकेंड का समय लगता है और इस तकनीक से सपाट सतह को टच स्क्रीन में भी बदला जा सकता है. कोई भी व्यक्ति इस चश्मे में एक रिंग का इस्तेमाल कर सामने नजर आने वाले चित्रों में हेरफेर भी कर सकता है.
जबकि इन चश्मों में सामने नजर आने वाले व्यक्ति की व्यक्तिगत जानकारी प्रदर्शित करने के लिए चेहरों को पहचानने का एक सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल भी किया गया है. जिसके लिए स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हुए दूरदराज सर्वरों से डाटा लिया जाता है. आईडीसी कंज्यूमर टेक्नोलॉजी सलाहकार ने बताया की धारण की जाने वाली इन तकनीकों में काफी क्षमता है, लेकिन कई समस्याओं का भी सामना करना पडता है. उन्होंने कहा कि छोटी ऎप्लीकेशन वाले इसके साथ स्मार्ट चश्मे नहीं बेचेंगे.
स्मार्ट चश्मों के साथ तात्कालिक समस्या उनके आकार, वजन और बैटरी लाइफ की है. इसके अलावा उपभोक्ताओं की दुनिया में फैशन और सामाजिक स्वीकार्यता भी मुद्दे हैं. कुछ बडी तकनीकी कंपनियां हैं, जो इस तरह की तकनीक विकसित करने में लगी है. गूगल भी अपने गूगल ग्लास प्रोजेक्ट के तहत सिर पर पहने जाने वाला चश्मा तैयार कर रहा है. धारण की जाने वाली तकनीक इन चश्मों में सामने नजर आने वाले व्यक्ति की व्यक्तिगत जानकारी प्रदर्शित करने के लिए चेहरों को पहचानने का एक सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल भी किया गया है.sabhar : palpalindia.com

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पहला मेंढक जो अंडे नहीं बच्चे देता है

वैज्ञानिकों को इंडोनेशियाई वर्षावन के अंदरूनी हिस्सों में एक ऐसा मेंढक मिला है जो अंडे देने के बजाय सीधे बच्चे को जन्म देता है.



एशिया में मेंढकों की एक खास प्रजाति 'लिम्नोनेक्टेस लार्वीपार्टस' की खोज कुछ दशक पहले इंडोनेशियाई रिसर्चर जोको इस्कांदर ने की थी. वैज्ञानिकों को लगता था कि यह मेंढक अंडों की जगह सीधे टैडपोल पैदा कर सकता है, लेकिन किसी ने भी इनमें प्रजनन की प्रक्रिया को देखा नहीं था. पहली बार रिसर्चरों को एक ऐसा मेंढक मिला है जिसमें मादा ने अंडे नहीं बल्कि सीधे टैडपोल को जन्म दिया. मेंढक के जीवन चक्र में सबसे पहले अंडों के निषेचित होने के बाद उससे टैडपोल निकलते हैं जो कि एक पूर्ण विकसित मेंढक बनने तक की प्रक्रिया में पहली अवस्था है. टैडपोल का शरीर अर्धविकसित दिखाई देता है. इसके सबूत तब मिले जब बर्कले की कैलिफोर्निया यूनीवर्सिटी के रिसर्चर जिम मैकग्वायर इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप के वर्षावन में मेंढकों के प्रजनन संबंधी व्यवहार पर रिसर्च कर रहे थे. इसी दौरान उन्हें यह खास मेंढक मिला जिसे पहले वह नर समझ रहे थे. गौर से देखने पर पता चला कि वह एक मादा मेंढक है, जिसके साथ कर…

समय क्या है ? समय का निर्माण कैसे होता है?

भौतिक वैज्ञानिक तथा लेखक पाल डेवीस के अनुसार “समय” आइंस्टाइन की अधूरी क्रांति है। समय की प्रकृति से जुड़े अनेक अनसुलझे प्रश्न है। समय क्या है ?समय का निर्माण कैसे होता है ?गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से समय धीमा कैसे हो जाता है ?गति मे समय धीमा क्यों हो जाता है ?क्या समय एक आयाम है ?अरस्तु ने अनुमान लगाया था कि समय गति का प्रभाव हो सकता है लेकिन उन्होने यह भी कहा था कि गति धीमी या तेज हो सकती है लेकिन समय नहीं! अरस्तु के पास आइंस्टाइन के सापेक्षतावाद के सिद्धांत को जानने का कोई माध्यम नही था जिसके अनुसार समय की गति मे परिवर्तन संभव है। इसी तरह जब आइंस्टाइन साधारण सापेक्षतावाद के सिद्धांत के विकास पर कार्य कर रहे थे और उन्होने क्रांतिकारी प्रस्ताव रखा था कि द्रव्यमान के प्रभाव से अंतराल मे वक्रता आती है। लेकिन उस समय आइंस्टाइन  नही जानते थे कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। ब्रह्माण्ड के विस्तार करने की खोज एडवीन हब्बल ने आइंस्टाइन द्वारा “साधारण सापेक्षतावाद” के सिद्धांत के प्रकाशित करने के 13 वर्षो बाद की थी। यदि आइंस्टाइन को विस्तार करते ब्रह्माण्ड का ज्ञान होता तो वे इसे अपने साधारण …

वैज्ञानिकों ने विकसित किया इलेक्ट्रॉनिक पौधा, विज्ञान के क्षेत्र में नए युग की शुरुआत

लंदन: वैज्ञानिकों ने पौधे के संवहन तंत्र में सर्किट लगाकर एक इलेक्ट्रॉनिक पौधे का निर्माण किया है। इससे विज्ञान के क्षेत्र में नए युग की शुरुआत हो सकती है।