सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जब शरीर का कोई अंग घिस जाए, उसे बदल डालिए



जब शरीर का कोई अंग घिस जाए, उसे बदल डालिए

विशेषज्ञों का मानना है कि आने वाले दस-पन्द्रह साल के बाद मनुष्य ख़ुद अपने शरीर पर 'थिगलियाँ' लगाना शुरू

विशेषज्ञों का मानना है कि आने वाले दस-पन्द्रह साल के बाद मनुष्य ख़ुद अपने शरीर पर 'थिगलियाँ' लगाना शुरू कर देगा। वह अपने पुराने और घिस चुके अंगों को और अपनी माँसपेशियों के संयोजी ऊतकों को, जब मन होगा, ख़ुद ही बदल लिया करेगा। जापान में एक क्लीनिकल अनुसंधान के दौरान कोशिका-चिकित्सा (या सेल-थैरेपी) की सहायता से मानव-हृदय के ऊतकों को नया जीवन दिया जाता है। रूस में विशेष जैविक-रिएक्टरों में न सिर्फ़ संयोजी ऊतकों का विकास किया जाता है, बल्कि नए मानव-अंगों को भी विकसित किया जाता है। फ़िलहाल चिकित्सक इस तक्नोलौजी का सिर्फ़ परीक्षण कर रहे हैं। लेकिन जल्दी ही चिकित्सक इस तक्नोलौजी का व्यावहारिक रूप से इस्तेमाल शुरू कर देंगे।
आज से दस साल पहले अगर कोई इस तरह की बात कहता तो लोग उसे कपोल-कल्पना ही मानते और उसकी हँसी उड़ाने लगते। लेकिन आज मानव अंगों को कृत्रिम रूप से विकसित करने वाली इस तरह की तक्नोलौजी एक वास्तविकता यानी एक सच्चाई बन चुकी है। आज वैज्ञानिक पुनर्योजी चिकित्सा विधियों की सहायता से कोशिकाओं से एक पूरे मानव अंग का कृत्रिम रूप से विकास कर सकते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि डॉक्टर जल्दी ही त्वचा सम्बन्धी बीमारियों से लेकर कैंसर तक ज़्यादातर बीमारियों का इलाज कर सकेंगे। जापान में तो डॉक्टर आज भी कृत्रिम तौर पर उगाई गई कोशिकाओं या संवर्धित कोशिकाओं की सहायता से हृदय-रोगों का इलाज करने की कोशिश कर रहे हैं।
सेल-टैक्नालौजी या कोशिका-तक्नोलौजी का इस्तेमाल मानव-शरीर पर चोट लगने के बाद उस चोट के कुप्रभाव को कम करने के लिए किया जा सकता है। जापान के डॉक्टर इन कृत्रिम या संवर्धित कोशिकाओं की मदद से आँख के क्षतिग्रस्त कॉर्निया (या आँख की पुतली के परदे) को फिर से विकसित कर लेते हैं। रूस के राजकीय चिकित्सा विश्वविद्यालय में भी मानव-शरीर पर चोट लगने से और जलने से हुए घावों का इलाज करने के लिए संयोजी ऊतक कोशिकाओं का इस्तेमाल करने की संभावना का अध्ययन किया जा रहा है। और दक्षिणी रूस में स्थित क्रास्नादार नगर का एक पुनर्योजी चिकित्सा केन्द्र अपने वक्ष शल्य-चिकित्सा विभाग में आने वाले मरीज़ों के इलाज के लिए कृत्रिम श्वास-नली उगाने या कृत्रिम रूप से साँस की नली का संवर्धन करने की कोशिश कर रहा है।
मास्को की अधुनातन जैव-चिकित्सा तक्नोलौजी प्रयोगशाला के प्रमुख अलेक्सेय कवाल्योव ने मीडिया को एक इंटरव्यू देते हुए बताया कि कोशिकाओं से ऊतकों का संवर्धन करने की तक्नोलौजी जल्दी ही डॉक्टरों द्वारा व्यापक तौर पर इस्तेमाल की जाने लगेगी और वह एक आम बात हो जाएगी। अलेक्सेय कवाल्योव ने कहा :
आज प्रयोग करते हुए या परीक्षण करते हुए हम एक विशेष जैव-रिएक्टर में या बायो-रिएक्टर में बड़े स्तर पर मानव-त्वचा का कृत्रिम रूप से संवर्धन या विकास कर सकते हैं। आज भी हम बच्चों की दबी-कुचली उँगलियों का इलाज करते हुए उनकी उँगलियों के सिरों को फिर से विकसित कर लेते हैं। इसी तक्नोलौजी को हमने थोड़ा और अधुनातन बना लिया है और अब हम इस तक्नोलौजी का इस्तेमाल वयस्क लोगों के उँगलियों के सिरे को फिर से नया जीवन देने के लिए भी करते हैं।
आप शायद यह सोच रहे होंगे कि ये जैव-रिएक्टर या बायो-रिएक्टर क्या चीज़ है? जैव-रिएक्टर या बायो-रिएक्टर दर‍असल एक ऐसा उपकरण है, जिसमें पूरी तरह से नियंत्रित तरल द्रव में ऊतकों के विकास की प्रक्रिया सम्पन्न की जाती है। इस तक्नोलौजी का इस्तेमाल करके उन ऊतकों का विकास करना भी संभव है जो आम तौर पर ख़ुद प्राकृतिक रूप से विकसित नहीं हो पाते। यह रूसी बायो-मेडिसन का नो-हाऊ या कहना चाहिए कि रूसी जैव-चिकित्सा का अपना आविष्कार, अपनी अधुनातन जानकारी है। यह विचार क़रीब पचास-साठ साल पहले उन सोवियत वैज्ञानिकों के मन में आया था जो मानव-अंगों के पुनर्विकास से सम्बन्धित अनुसंधान और शोध का काम कर रहे थे। आज रूसी चिकित्सक इस तक्नोलौजी का बड़ी सफलता के साथ दिन-प्रतिदिन उपयोग कर रहे हैं। अलेक्सेय कवाल्योव ने बताया :
हम मानव-शरीर के किसी अंग को कृत्रिम रूप से बायो-रिएक्टर में विकसित करते हैं और फिर उसका मानव के शरीर में प्रत्यारोपण कर देते हैं। आजकल हम एक नई दिशा में प्रयोग कर रहे हैं, जैसे हम शरीर का क्षतिग्रस्त मूल अंग को ही जैव-रिएक्टर में या बायो-रिएक्टर में रख देते हैं और फिर इसी बायो-रिएक्टर में उस अंग के क्षतिग्रस्त सिरे पर ऊतकों का विकास करते हैं।
ऐसा हो सकता है कि आने वाले 10-15 वर्षों के बाद रूस में इस तरह की जैव-फ़ैक्ट्रियाँ खुल जाएँ और इस तरह के बैंक काम करने लगें जहाँ मानव शरीर के अंग और ऊतक बनाए जाएँगे और वे बैंक में तैयार रखे होंगे। जब भी किसी रोगी को या मरीज़ को उनकी ज़रूरत पड़ेगी, वे तुरन्त मंगाए जा सकेंगे।

किसी भी मानव-शरीर की अपनी ही निजी कोशिकाओं से ऊतकों का विकास करने की विधि शरीर में कृत्रिम अंगों के प्रत्यारोपण की समस्याओं को भी हल कर देगी, क्योंकि मानव-शरीर की निजी कोशिकाओं से विकसित हुए ऊतक किसी दूसरे शरीर से ग्रहण किए जाने वाले मानव-अंगों के ऊतकों के मुक़ाबले शरीर के लिए एकदम फ़िट होंगे और उनकी कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया भी नहीं होगी। तब मानव-अंगों के दानदाताओं की कमी और उन अंगों की कमी की समस्या भी पूरी तरह से ख़त्म हो जाएगी।sabhar : http://hindi.ruvr.ru








टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

vigyan ke naye samachar ke liye dekhe

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

समय क्या है ? समय का निर्माण कैसे होता है?

भौतिक वैज्ञानिक तथा लेखक पाल डेवीस के अनुसार “समय” आइंस्टाइन की अधूरी क्रांति है। समय की प्रकृति से जुड़े अनेक अनसुलझे प्रश्न है। समय क्या है ?समय का निर्माण कैसे होता है ?गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से समय धीमा कैसे हो जाता है ?गति मे समय धीमा क्यों हो जाता है ?क्या समय एक आयाम है ?अरस्तु ने अनुमान लगाया था कि समय गति का प्रभाव हो सकता है लेकिन उन्होने यह भी कहा था कि गति धीमी या तेज हो सकती है लेकिन समय नहीं! अरस्तु के पास आइंस्टाइन के सापेक्षतावाद के सिद्धांत को जानने का कोई माध्यम नही था जिसके अनुसार समय की गति मे परिवर्तन संभव है। इसी तरह जब आइंस्टाइन साधारण सापेक्षतावाद के सिद्धांत के विकास पर कार्य कर रहे थे और उन्होने क्रांतिकारी प्रस्ताव रखा था कि द्रव्यमान के प्रभाव से अंतराल मे वक्रता आती है। लेकिन उस समय आइंस्टाइन  नही जानते थे कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। ब्रह्माण्ड के विस्तार करने की खोज एडवीन हब्बल ने आइंस्टाइन द्वारा “साधारण सापेक्षतावाद” के सिद्धांत के प्रकाशित करने के 13 वर्षो बाद की थी। यदि आइंस्टाइन को विस्तार करते ब्रह्माण्ड का ज्ञान होता तो वे इसे अपने साधारण …

पहला मेंढक जो अंडे नहीं बच्चे देता है

वैज्ञानिकों को इंडोनेशियाई वर्षावन के अंदरूनी हिस्सों में एक ऐसा मेंढक मिला है जो अंडे देने के बजाय सीधे बच्चे को जन्म देता है.



एशिया में मेंढकों की एक खास प्रजाति 'लिम्नोनेक्टेस लार्वीपार्टस' की खोज कुछ दशक पहले इंडोनेशियाई रिसर्चर जोको इस्कांदर ने की थी. वैज्ञानिकों को लगता था कि यह मेंढक अंडों की जगह सीधे टैडपोल पैदा कर सकता है, लेकिन किसी ने भी इनमें प्रजनन की प्रक्रिया को देखा नहीं था. पहली बार रिसर्चरों को एक ऐसा मेंढक मिला है जिसमें मादा ने अंडे नहीं बल्कि सीधे टैडपोल को जन्म दिया. मेंढक के जीवन चक्र में सबसे पहले अंडों के निषेचित होने के बाद उससे टैडपोल निकलते हैं जो कि एक पूर्ण विकसित मेंढक बनने तक की प्रक्रिया में पहली अवस्था है. टैडपोल का शरीर अर्धविकसित दिखाई देता है. इसके सबूत तब मिले जब बर्कले की कैलिफोर्निया यूनीवर्सिटी के रिसर्चर जिम मैकग्वायर इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप के वर्षावन में मेंढकों के प्रजनन संबंधी व्यवहार पर रिसर्च कर रहे थे. इसी दौरान उन्हें यह खास मेंढक मिला जिसे पहले वह नर समझ रहे थे. गौर से देखने पर पता चला कि वह एक मादा मेंढक है, जिसके साथ कर…

मिला हमेशा जवान रहने का नुस्खा

एक प्रोफेसर का दावा है कि उसने दक्षिण जापान के लोगों की लंबी उम्र का राज ढूंढ निकाला है. यह राज एक खास पौधे के अर्क में छुपा है, जिसे स्थानीय लोग "गेटो" के नाम से जानते हैं. ओकिनावा की रियूक्यूस यूनिवर्सिटी में कृषि विज्ञान के प्रोफेसर शिंकिचि तवाडा ने दक्षिण जापान के लोगों की लंबी उम्र का राज ढूंढ निकाला है. तवाडा को विश्वास है कि गहरे पीले-भूरे से रंग का दिखने वाला एक खास पौधे "गेटो" का अर्क इंसान की उम्र 20 फीसदी तक बढ़ा सकता है. तवाडा कहते हैं, "ओकिनावा में कई दशक से लंबी उम्र तक जीने का दर दुनिया में सबसे ज्यादा रहा है और मुझे लगता है कि इसका कारण जरूर यहां के परंपरागत खान पान में ही छुपा है." काइको उहारा 64 साल की हैं लेकिन अपनी उम्र से कहीं कम की दिखती हैं. इसका राज वह गेटो को बताती हैं. काइको अपनी दुकान में ऐसे सौंदर्य उत्पाद भी बेचती हैं जिनमें गेटो ही मुख्य घटक होता है, "मैं गेटो का काढ़ा पीती हूं, जो मुझे तरो ताजा कर देता है, और मैं इस पौधे के अर्क को पानी में घोल कर लगाती हूं जिससे झुर्रियां भी कम होती हैं." दक्षिण जापान में जीते है…