सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मंगल के “निवासी” मानवजाति के लिए ख़तरा


मंगल के “निवासी” मानवजाति के लिए ख़तरा

पृथ्वी के निवासियों द्वारा मंगल ग्रह पर भेजे गए या भविष्य में भेजे जानेवाले अनुसंधान वाहन बेशक हमें अमूल्य जानकारी प्रदान कर सकते हैं लेकिन अगर ये वाहन पृथ्वी पर वापस लौटेंगे तो वे अपने साथ बिन बुलाए मेहमानों को भी ला सकते हैं। बेशक, ये हरी चमड़ी वाले मनुष्य नहीं होंगे। वैज्ञानिकों का कहना है कि ये बेहद सूक्ष्म जीव हो सकते हैं जो पृथ्वी के निवासियों के लिए एक भयानक ख़तरा बन सकते हैं।

अमरीका द्वारा मंगल ग्रह पर भेजे गए रोवर “क्युरियोसिटी” पर लगे एक खोज-यंत्र ने अभी हाल ही में इस गृह पर मीथेन गैस की मौजूदगी का पता लगाया है। इस गैस की मौजूदगी का मतलब यह है कि मंगल गृह पर जीव और पौधे भी मौजूद हो सकते हैं। पौधों और जीवों की वजह से ही पृथ्वी पर मीथेन गैस पैदा होती है। अब सवाल पैदा होता है कि क्या मंगल ग्रह पर वास्तव में जीव-जंतु और पौधे मोजूद हैं? वैज्ञानिकों का अनुमान है कि मंगल ग्रह पर बुद्धिमान प्राणी तो शायद नहीं रहते हैं लेकिन वहाँ अति सूक्ष्म अविकसत जीवों की मौजूदगी से इनकार नहीं किया जा सकता है। इस संबंध में रूसी विज्ञान अकादमी के अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान के एक वरिष्ठ शोधकर्ता मक्सिम मक्रोऊसोव ने "रेडियो रूस" को बताया-
मंगल ग्रह पर अभी तक स्वयं सूक्ष्म जीव तो नहीं मिले हैं लेकिन मंगल के वातावरण में मीथेन गैस की मौजूदगी का पता चला है। इसका मतलब यह है कि वहाँ जीवन भी मौजूद है। अगर ऐसा नहीं है तो हम इस सवाल का जवाब भी नहीं दे सकते हैं कि यह गैस वहाँ कहाँ से आई। विज्ञान हमें बताता है कि वातावरण में मीथेन गैस की मौजूदगी तब ही संभव हो सकती है यदि इस स्थान पर जीवों की निरंतर गतिविधियां होती हों। मीथेन गैस वास्तव में बहुत जल्दी ही अन्य गैसों के साथ पुनर्संयोजित होकर गायब हो जाती है।
वैज्ञानिकों का मानना है कि ऐसे "मेहमानों" को मिलने से बचने में ही हमारी भलाई है। इस प्रकार के बैक्टीरिया ने अंतरिक्ष स्टेशन 'मीर' को लगभग नष्ट ही कर दिया था। एक ही स्थान पर उनके जमावड़े के कारण अंतरिक्ष स्टेशन 'मीर' के कई उपकरणों ने काम करना बंद कर दिया था। इसी तरह की घटनाएं अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर भी घट चुकी हैं। ये बैक्टीरिया पृथ्वी से वहाँ पहुँचाए गए थे। अंतरिक्ष में इनका विकास बहुत तेज़गति से होता है। इस संबंध में मक्सिम मक्रोऊसोव ने कहा-
हमारी पृथ्वी पर हवाएं चलती रहती हैं, यानी हमारी पृथ्वी पर वेंटिलेशन होती रहती है। अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आई.एस.एस.) पर वेंटिलेशन नहीं होती है। वहाँ कोई गुरुत्वाकर्षण भी नहीं है, हर जगह पर हवा निश्चल होती है। ऐसे वातावरण में बैक्टीरिया का विकास बहुत तेज़गति से होता है। अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर जो अंतरिक्ष यान भेजे जाते हैं उनकी खूब सफ़ाई की जाती है लेकिन फिर भी कुछ न कुछ फफूंद उनके साथ चले ही जाते हैं और अंतरिक्ष में जाकर वे बड़ी तेज़ी से बढ़ते हैं। अगर आप इंटरनेट में जाकर अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर स्थापित पैनलों की तस्वीरें ध्यान से देखें तो आपको वहाँ भारी मात्रा में फफूंद दिखाई देंगे।
इस मामले में इन सूक्षम जीवों की संख्या का उतना महत्त्व नहीं है जितना उनके गुणों का महत्त्व है। नए माहौल में वे उत्परिवर्तित हो जाते हैं, बदल जाते हैं। आप इस बात की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं कि अगर ग़लती से किसी अन्य ग्रह से पृथ्वी पर ऐसे सूक्षम जीव पहुँच जाएं तो फिर क्या हो सकता है? लोगों को नए घातक विषाणुओँ सामना करना पड़ सकता है। इस सिलसिले में रूसी विज्ञान अकादमी के पर्यावरण और जैव-चिकित्सा संस्थान की सूक्ष्म जीव-विज्ञान तथा रोगाणुरोधी प्रयोगशाला की प्रमुख नताल्या नोविकोवा ने कहा-
अंतरिक्ष यान को दूसरे ग्रहों की और भेजने से पहले पूरी तरह सेस्टेरलाइज़ नहीं किया जा सकता है। पूरी कोशिशों के बावजूद कुछ न कुछ सूक्ष्म जीव इन यानों पर रह सकते हैं। और जब वे दूसरे ग्रह के वातावरण में रहकर वापस पृथ्वी पर लौटेंगे तो हम इन जीवों के गुणों में आए परिवर्तन का अग्रिम अनुमान नहीं लगा सकेंगे।
दूसरे ग्रह का वातावरण सूक्ष्म जीवों के गुणों में गंभीर परिवर्तन कर सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि आज इन परिवर्तनों को पहचान पाना एक असंभव काम है। और अगर मंगल ग्रह के निवासी (अति सूक्षम जीव) और पृथ्वी से मंगल पर जानेवाले सूक्षम जीव एक साथ पृथ्वी पर वापस लौटेंगे तो वे मानवजाति के लिए कई नई मुसीबतों का स्रोत बन जाएंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

समय क्या है ? समय का निर्माण कैसे होता है?

भौतिक वैज्ञानिक तथा लेखक पाल डेवीस के अनुसार “समय” आइंस्टाइन की अधूरी क्रांति है। समय की प्रकृति से जुड़े अनेक अनसुलझे प्रश्न है। समय क्या है ?समय का निर्माण कैसे होता है ?गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से समय धीमा कैसे हो जाता है ?गति मे समय धीमा क्यों हो जाता है ?क्या समय एक आयाम है ?अरस्तु ने अनुमान लगाया था कि समय गति का प्रभाव हो सकता है लेकिन उन्होने यह भी कहा था कि गति धीमी या तेज हो सकती है लेकिन समय नहीं! अरस्तु के पास आइंस्टाइन के सापेक्षतावाद के सिद्धांत को जानने का कोई माध्यम नही था जिसके अनुसार समय की गति मे परिवर्तन संभव है। इसी तरह जब आइंस्टाइन साधारण सापेक्षतावाद के सिद्धांत के विकास पर कार्य कर रहे थे और उन्होने क्रांतिकारी प्रस्ताव रखा था कि द्रव्यमान के प्रभाव से अंतराल मे वक्रता आती है। लेकिन उस समय आइंस्टाइन  नही जानते थे कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। ब्रह्माण्ड के विस्तार करने की खोज एडवीन हब्बल ने आइंस्टाइन द्वारा “साधारण सापेक्षतावाद” के सिद्धांत के प्रकाशित करने के 13 वर्षो बाद की थी। यदि आइंस्टाइन को विस्तार करते ब्रह्माण्ड का ज्ञान होता तो वे इसे अपने साधारण …

30 सेकंड के फर्क ने मिटा दिया था डायनसोर युग का वजूद

डायनासोर युग के अंत के लिए कहा जाता है कि एक बहुत बड़ा ऐस्टरॉइड धरती से टकराया था जिससे पैदा हुए विस्फोट ने इन विशालकाय जानवरों का वजूद खत्म कर दिया। लेकिन इस विस्फोट की टाइमिंग को लेकर बीबीसी की एक डॉक्युमेंट्री में बहुत दिलचस्प तथ्य सामने आया है। द डे डायनासोर डाइड नाम की इस डॉक्युमेंट्री में बताया गया है कि जिस ऐस्टरॉइड ने डायनासोरों का अंत किया, अगर वह धरती से 30 सेकंड जल्दी (पहले) या 30 सेकंड देर (बाद) से टकराता तो उसका असर जमीनी भूभाग पर इतना कम होता कि डायनासोर खत्म नहीं होते। ऐसा इसलिए क्योंकि 30 सेकंड की देरी या जल्दी गिरने की स्थिति में वह जमीन की बजाय समुद्र में गिरता।

यह ऐस्टरॉइड 6.6 करोड़ साल पहले मेक्सिको के युकटॉन प्रायद्वीप से टकराया था जिससे वहां 111 मील चौड़ा और 20 मील गहरा गड्ढा बन गया था। वैज्ञानिकों ने इस गड्ढे की जांच की तो वहां की चट्टान में सल्फर कम्पाउन्ड पाया गया। ऐस्टरॉइट की टक्कर से यह चट्टान वाष्प में बदल गई थी जिसने हवा में धूल का बादल बना दिया था। इसके परिणामस्वरूप पूरी धरती नाटकीय रूप से ठंडी हो गई और पूरे एक दशक तक इसी स्थिति में रही। उन हालात में अधिकत…

2050 की दुनिया

आने वाली दुनिया कैसी होगी। सबकी अपनी कल्पनाएं और अंदाजे हैं। विज्ञान दुनिया को नए तरीके से देख रहा है। फिल्मी दुनिया की अपनी फंतासियां हैं। बात हो रही है 2050 की। आज की कल्पनाएं निश्चित तौर पर आने वाले वक्तके धरातल पर होंगी। संभव है दिमाग को कम्प्यूटर की फाइल के तौर पर सुरक्षित रखा जाए। यह भी मुमकिन है कि आदमी गायब होना सीख ले। 

यह है फ्यूचरोलॉजी
ऎसा नहीं है कि भविष्य दर्शन केवल फिल्मकारों की कल्पना तक सीमित है। वैज्ञानिक भी इसमें खासी रूचि ले रहे हैं। तथ्यों और पूर्वानुमानों के सामंजस्य को विज्ञान की कसौटी पर परख कर भविष्य की कल्पना एक नए विज्ञान की राह खोल रही है। यह विज्ञान है फ्यूचरोलॉजी यानी भविष्य विज्ञान। क्या भविष्य में चांद पर बस्ती बसेगी। क्या हमारा परिचय धरती से परे किसी दूसरी दुनिया के प्राणियों से होगा। क्या इंसान मौत पर विजय पाने में कामयाब हो जाएगा। नामुमकिन सी लगने वाली ऎसी कल्पनाओं का वैज्ञानिक अध्ययन भी फ्यूचरोलॉजी के तहत किया जा रहा है। जिस तरह से मौसम-विज्ञानी भविष्य में मौसम का, अर्थशास्त्री भविष्य की विकास दर और इतिहासकार अतीत की घटनाओं का तार्किक आकलन पेश करते हैं…