सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कृत्रिम बुद्धि और मानवजाति का भविष्य

कृत्रिम बुद्धि और मानवजाति का भविष्य

कुछ वैज्ञानिकों द्वारा कृत्रिम बुद्धि का विकास किया जा रहा है जबकि कुछ अन्य वैज्ञानिकों द्वारा इस कृत्रिम बुद्धि

कुछ वैज्ञानिकों द्वारा कृत्रिम बुद्धि का विकास किया जा रहा है जबकि कुछ अन्य वैज्ञानिकों द्वारा इस कृत्रिम बुद्धि से सुरक्षा के उपाए भी खोजे जा रहे हैं।
इस साल कैम्ब्रिज में एक विशेष अनुसंधान केंद्र खुल जाएगा, जिसका मुख्य कार्य- कृत्रिम बुद्धि से उत्पन्न ख़तरों का मुकाबला करना होगा। अभी कुछ समय पहले अमरीका के रक्षा विभाग ने एक निर्देश जारी किया था जो स्वचालित और अर्द्ध-स्वचालित युद्ध प्रणालियों के प्रति मानव के व्यवहार को निर्धारित करता है।
अमरीकी सैन्य अधिकारियों की इस चिंता को समझना कोई मुश्किल काम नहीं है। बात दरअसल यह है कि अमरीका अपनी सेना के रोबोटिकरण के मामले में दुनिया के अन्य देशों से बहुत आगे निकल गया है।
उसके पास कई प्रकार के "ड्रोन" विमान हैं। इसके अलावा, उसके पास रोबोट-इंजीनियर, रोबोट-सैनिक (मशीनगनों और ग्रेनेड लांचरों से लैस छोटे क्रॉलर प्लेटफार्म) पहले से ही मौजूद हैं। और मीडिया में समय-समय पर ऐसी चिंताजनक ख़बरें भी आती रहती हैं कि "चालक रहित वाहन नियंत्रण से बाहर हो गया है ...।"
लेकिन ये उड़ने, चलने और गोलियाँ चलानेवाली सभी मशीनें रेडियो प्रोग्रामों के ज़रिए पूरी तरह से मनुष्य द्वारा नियंत्रित "खिलौने" हैं। बेशक, फ़ौजी लोग इस बात के सपने ज़रूर देखते होंगे कि किसी न किसी दिन ऐसे लड़ाके रोबटों का निर्माण कर लिया जाएगा जो रणक्षेत्र में स्वयं ही निर्णय कर सकेंगे। इस सिलसिले में रूस के एक सैन्य विशेषज्ञ विक्टर बरानेत्स ने कहा-
स्वचालित सेनानी( रोबट-सैनिक) सभी चरणों पर स्वयं निर्णय नहीं ले सकता है। ऐसे निर्णय केवल मनुष्य ही कर सकता है। कई लोगों की तो यह राय भी है कि रोबट कभी भी शत-प्रतिशत निर्णय सवयं नही ले सकेगा। रणक्षेत्र में बदलती परिस्थितियों में केवल मनुष्य ही तुरंत निर्णय ले सकता है।
शस्त्र, दावपेच और रणनीति लगातार बदलते रहते हैं। सॉफ्टवेयर के निर्माता युद्ध के समय तेज़ी से बदलते दावपेचों के अनुसार शाफ्टवेयर में तालमेल नहीं बैठा सकते हैं। लेकिन यह भी कहा जा रहा है कि कृत्रिम बुद्धि न केवल युद्ध के मैदान में हावी हो सकती है, बल्कि इंटरनेट को भी अपने अधीन कर सकती है और वित्तीय प्रवाह को नियंत्रित कर सकती है। आजकल ऐसी मशीनें बन गई हैं जो शेयर बाज़ारों में बड़े बड़े बुद्धिमान लोगों को भी मात दे सकती हैं। और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सोचनेवाली मशीन न केवल सभी प्रणालियों पर नियंत्रण कर सकती है बल्कि अपने ही जैसी नई मशीनें भी बना सकती है। उदाहरण के लिए, रोबोट ही रोबोटों का निर्माण कर सकते हैं। पहले से ही इस दिशा में काफ़ी सफल प्रयोग चल रहे हैं।
लेकिन इस क्षेत्र में असली सफलता तब मिलेगी जब नैनो तकनीक का उपयोग शुरू किया जाएगा। पिछली सदी के 9-वें दशक में नैनो तकनीक के विचारक एरिक ड्रेक्सलर ने "भूरा चिपचिपा द्रव्य" (grey goo) शब्दों का इस्तेमाल किया था। उनका कहना था कि स्वचालित नैनोरोबट किसी भी पदार्थ से अपने जैसे ही कई नए नैनोरोबटों का निर्माण कर सकते हैं। वे इतनी तीव्र गति से ऐसा करेंगे कि दुनिया में सभी सामग्रियों का अंत हो जाएगा, ये सामग्रियां नैनोरोबटों द्वारा निगल ली जाएंगी। इस संबंध में एक रूसी लेखक अलेक्सेय तुर्चिन ने चेतावनी दी है कि फ़िलहाल तो यह एक कोरी कल्पना है लेकिन भविष्य में यह वास्तविकता का रूप भी धारण कर सकती है। अलेक्सेय तुर्चिन कहते हैं-
अब यह बात स्पष्ट रूप से समझ में आने लगी है कि नैनोरोबटों का निर्माण कैसे किया जा सकता है। अगर नैनो-तकनीक विकसित होगी तो नैनो-रोबटों का निर्माण भी किया जा सकेगा। इसका मतलब यह है कि एक साल के बाद कृत्रिम बुद्धि भी निर्मित हो जाएगी। और अपनी बारी में कृत्रिम बुद्धि नैनो-रोबटों का निर्माण कर सकेगी। वास्तव में , सब कुछ एक ही साथ होने लगेगा। मुझे लगता है कि ऐसा चक्र आज से 10 साल के बाद शुरू हो जाएगा। यह चक्र इस शताब्दी के चौथे और पाँचवें दहाकों में अपनी चरम सीमा पर होगा।
"भूरा चिपचिपा द्रव्य" (grey goo)- "कयामत के दिन की ऐसी काल्पनिक मशीनें" हैं जे हमारी पृथ्वी पर जीवन का अंत कर सकेंगी। पर क्या ये "काल्पनिक मशीनें" हैं? "शीत युद्ध" के दौरान पश्चिमी मीडिया में इस ख़बर की खूब चर्चा हुई थी कि सोवियत संघ के पास "पेरेमीटर" नामक एक मशीन है जो खुद ही बड़े पैमाने पर परमाणु हमले कर सकती है। और अगर उसने एक बार ऐसा हमला कर दिया तो उसे रोकने वाला कोई नहीं होगा। पश्चिम में इस मशीन को "मृत हाथ" का नाम दिया गया था। विशेषज्ञों द्वारा अभी तक इस सवाल पर बहस चल रही है कि क्या यह मशीन पूरी तरह से आज़ाद थी या कि अंतिम निर्णय मानव द्वारा ही लिया जाता था। ख़ैर, जो भी हो इस "मृत हाथ" ने पृथ्वी पर जीवन को नष्ट नहीं किया है, और इसके उलट, इसने शायद जीवन की रक्षा की है।
कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि मनुष्य किसी भी मशीन से कहीं अधिक ख़तरनाक है। आखिरकार, मनुष्य ही सबसे भयानक तकनीकी आपदाओं के लिए ज़िम्मेदार है। जापानी परमाणु बिजली संयंत्र "फुकुशिमा-1" का उदाहरण एकदम ताज़ा है। इस संबंघ में एक प्रोग्रामर-विशेषज्ञ सेर्गेय मस्कालियोव ने कहा है-
प्रौद्योगिकी और मानव के बीच टकराव बढ़ गया है। "फुकुशिमा-1" के सभी उपकरण इस बात का संकेत दे रहे थे कि इस बिजलीघर को बंद कर दिया जाए। लेकिन लोग अपने अधिकारियों को फोन करने लगे, और अधिकारी अपनी सीट पर मौजूद ही नहीं थे। किसी न किसी को तो फैसला लेना था। लेकिन फैसला नहीं लिया गया क्योंकि किसी भी परमाणु बिजली संयंत्र को बंद करने का काम बहुत महंगा पड़ता है। केवल कंप्यूटर, यानी कृत्रिम बुद्धि ही यह कह रही थी कि परमाणु बिजलीघर को बंद कर देना चाहिए, लेकिन मानव ने ऐसा नहीं किया।
सेर्गेय मस्कालियोव ने यह भी कहा -
इस क्षेत्र में जीत कंप्यूटर की ही होगी। वह तो शराब भी नहीं पीता, किसी अन्य नशीले पदार्थ का सेवन भी नहीं करता। वह परेशान नहीं होता , किसी से नाराज़ नहीं होता, वह आत्महत्या भी नहीं करता। वह क्रोधित नहीं होता और जानबूझकर कोई दुर्घटना नहीं करता, लोगों का अपहरण नहीं करता। कोई भी मशीन अपने आप ऐसा नहीं कर सकती है। मुझे आशा है कि वह भविष्य में भी ऐसा नहीं करेगी।
बेशक, अगर परमाणु हथियारों से संबंधित कंप्यूटर "पागल हो जाएगा" तो सभी के लिए एक भारी मुसीबत खड़ी हो जाएगी। लेकिन, सैन्य विशेषज्ञों का कहना है कि यदि रोबोट प्रणाली मनुष्य के नियंत्रण में नहीं रहेगी तो भी घबराने की कोई ज़रूरत नहीं है क्योंकि इस प्रणाली के अंदर ही एक दूसरी प्रणाली निहित है जो रोबोट प्रणाली को "आत्म-विनाश" करने पर मज़बूर कर देगी है। sabhar : http://hindi.ruvr.ru/
और पढ़ें: http://hindi.ruvr.ru/2013_01_03/99973317/

टिप्पणियाँ

  1. Ashton Eaton isn’t the only one getting a special award for his Decathalon win at the Olympics this summer, as Nike has gifted Jordan Shoes newborn babies in Portland with mbt shoes for men a special pair of sneakers. Jordans For Sale As part of the “Unlimited kobe shoes Future” campaign that featured an michael kors outlet online inspirational commercial depicting some of nike free trainer 5.0 Nike’s top athletes as babies kd shoes (embedded below if you missed michael kors outlet online sale it), Nike gifted children born Cheap Nike Air Max on Thursday, August 18th with mbt Shoes a very special pair of Nike Air Max 2017 Waffle 1 crib sneakers with yeezy boost 350 pirate black an inspirational note within a michael kors outlet online “My First Nike” box. The fitflop shoes sneakers—in the “Unlimited” Volt and Nike Air Max Hyper Punch colorway, of course—were Nike Outlet Store given out to newborns at yeezy shoes the Legacy Good Samaritan Medical yeezy boost 350 Center to celebrate Portland-born Ashton fitflops sandals Eaton’s second consecutive gold medal michael kors outlet online in the decathalon, which basically lebron james shoes confirms him as the world’s michael kors sale greatest athlete for another four nike free 5.0 years.

    उत्तर देंहटाएं
  2. During the summer, a Bred Nike LeBron Soldier 10 debuted. But today, we get a look at an upcoming Nike LeBron Soldier 10 that’s a bit more traditional to the classic NBA Store theme.Dressed in a full Black and University Red color scheme. This Nike LeBron Soldier 10 features Black covering majority Curry 3 Dub Nation Heritage of the upper, that includes the strap system and extended ankle collar. Red outlines the branding throughout, along with Warriors Team Store the shoe’s suede toe box and rubber outsole. Finishing off the look is 3M reflective detailing on the Nike Kobe shoes Swoosh logos.Check out the detailed images below and look for the Nike LeBron Soldier 10 “Bred” to release very Golden State Warriors Jerseys soon at select Nike Basketball retail stores. The retail price tag is set at $140 USD.
    It’s not available Cleveland Cavaliers Jerseys on US shelves, but when they drop clean new colorways of the Nike LeBron Ambassador 9 like this, they’re Cavalier Steam Shop still worth taking a look at. The takedown LeBron model designed for versatility and durability on the hardwood or LeBron zoom soldier 9 asphalt arrives this winter in two simple yet strong looks, with all-white or all-black uppers each with silver accents stephen curry shoes and reflective “23” detailing on the tongues. You won’t find them in the USA, but luckily they’re up for Curry 3.5 grabs now on eBay if you need a pair.
    It’s no secret that I live in Northeast Ohio. Last Kobe 10 night, the city was buzzing with excitement because of the Cleveland Indians (I know the name isn’t great, probably Russell Westbrook Shoes needs to go). The team punched its ticket to its first World Series since 1997.Now, the championship drought is over because of the Cavaliers in June but everything else has come up very rosy for the city since the Basketball Shoes

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

vigyan ke naye samachar ke liye dekhe

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

समय क्या है ? समय का निर्माण कैसे होता है?

भौतिक वैज्ञानिक तथा लेखक पाल डेवीस के अनुसार “समय” आइंस्टाइन की अधूरी क्रांति है। समय की प्रकृति से जुड़े अनेक अनसुलझे प्रश्न है। समय क्या है ?समय का निर्माण कैसे होता है ?गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से समय धीमा कैसे हो जाता है ?गति मे समय धीमा क्यों हो जाता है ?क्या समय एक आयाम है ?अरस्तु ने अनुमान लगाया था कि समय गति का प्रभाव हो सकता है लेकिन उन्होने यह भी कहा था कि गति धीमी या तेज हो सकती है लेकिन समय नहीं! अरस्तु के पास आइंस्टाइन के सापेक्षतावाद के सिद्धांत को जानने का कोई माध्यम नही था जिसके अनुसार समय की गति मे परिवर्तन संभव है। इसी तरह जब आइंस्टाइन साधारण सापेक्षतावाद के सिद्धांत के विकास पर कार्य कर रहे थे और उन्होने क्रांतिकारी प्रस्ताव रखा था कि द्रव्यमान के प्रभाव से अंतराल मे वक्रता आती है। लेकिन उस समय आइंस्टाइन  नही जानते थे कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। ब्रह्माण्ड के विस्तार करने की खोज एडवीन हब्बल ने आइंस्टाइन द्वारा “साधारण सापेक्षतावाद” के सिद्धांत के प्रकाशित करने के 13 वर्षो बाद की थी। यदि आइंस्टाइन को विस्तार करते ब्रह्माण्ड का ज्ञान होता तो वे इसे अपने साधारण …

पहला मेंढक जो अंडे नहीं बच्चे देता है

वैज्ञानिकों को इंडोनेशियाई वर्षावन के अंदरूनी हिस्सों में एक ऐसा मेंढक मिला है जो अंडे देने के बजाय सीधे बच्चे को जन्म देता है.



एशिया में मेंढकों की एक खास प्रजाति 'लिम्नोनेक्टेस लार्वीपार्टस' की खोज कुछ दशक पहले इंडोनेशियाई रिसर्चर जोको इस्कांदर ने की थी. वैज्ञानिकों को लगता था कि यह मेंढक अंडों की जगह सीधे टैडपोल पैदा कर सकता है, लेकिन किसी ने भी इनमें प्रजनन की प्रक्रिया को देखा नहीं था. पहली बार रिसर्चरों को एक ऐसा मेंढक मिला है जिसमें मादा ने अंडे नहीं बल्कि सीधे टैडपोल को जन्म दिया. मेंढक के जीवन चक्र में सबसे पहले अंडों के निषेचित होने के बाद उससे टैडपोल निकलते हैं जो कि एक पूर्ण विकसित मेंढक बनने तक की प्रक्रिया में पहली अवस्था है. टैडपोल का शरीर अर्धविकसित दिखाई देता है. इसके सबूत तब मिले जब बर्कले की कैलिफोर्निया यूनीवर्सिटी के रिसर्चर जिम मैकग्वायर इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप के वर्षावन में मेंढकों के प्रजनन संबंधी व्यवहार पर रिसर्च कर रहे थे. इसी दौरान उन्हें यह खास मेंढक मिला जिसे पहले वह नर समझ रहे थे. गौर से देखने पर पता चला कि वह एक मादा मेंढक है, जिसके साथ कर…

मिला हमेशा जवान रहने का नुस्खा

एक प्रोफेसर का दावा है कि उसने दक्षिण जापान के लोगों की लंबी उम्र का राज ढूंढ निकाला है. यह राज एक खास पौधे के अर्क में छुपा है, जिसे स्थानीय लोग "गेटो" के नाम से जानते हैं. ओकिनावा की रियूक्यूस यूनिवर्सिटी में कृषि विज्ञान के प्रोफेसर शिंकिचि तवाडा ने दक्षिण जापान के लोगों की लंबी उम्र का राज ढूंढ निकाला है. तवाडा को विश्वास है कि गहरे पीले-भूरे से रंग का दिखने वाला एक खास पौधे "गेटो" का अर्क इंसान की उम्र 20 फीसदी तक बढ़ा सकता है. तवाडा कहते हैं, "ओकिनावा में कई दशक से लंबी उम्र तक जीने का दर दुनिया में सबसे ज्यादा रहा है और मुझे लगता है कि इसका कारण जरूर यहां के परंपरागत खान पान में ही छुपा है." काइको उहारा 64 साल की हैं लेकिन अपनी उम्र से कहीं कम की दिखती हैं. इसका राज वह गेटो को बताती हैं. काइको अपनी दुकान में ऐसे सौंदर्य उत्पाद भी बेचती हैं जिनमें गेटो ही मुख्य घटक होता है, "मैं गेटो का काढ़ा पीती हूं, जो मुझे तरो ताजा कर देता है, और मैं इस पौधे के अर्क को पानी में घोल कर लगाती हूं जिससे झुर्रियां भी कम होती हैं." दक्षिण जापान में जीते है…