सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लास वेगास में टीवी की बदलती तस्वीर

अमेरिका के लास वेगास को आलीशान होटलों और कसीनो के लिए जाना जाता है, लेकिन यहां दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक मेला भी लगता है. इस बार इस मेले में एचडी और ओएलईडी टीवी का जादू बिखरा हुआ है. एक टीवी की कीमत छह लाख तक है. अमेरिका के लास वेगास को आलीशान होटलों और कसीनो के लिए जाना जाता है, लेकिन यहां दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक मेला भी लगता है. इस बार यहां एचडी और ओएलईडी टीवी का जादू बिखरा हुआ है. एक टीवी की कीमत 60 लाख रुपये तक है. तकनीक में दो मजेदार चलन हैं: एक तो हर मुमकिन उपकरण के आकार को छोटा करने का और दूसरा फोन और टीवी की स्क्रीन को बड़ा करने का. कंप्यूटर छोटे हो कर टैबलेट की शक्ल ले चुके हैं, तो टीवी की स्क्रीन अब 90 इंच तक हो गई है. कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स शो यानी सीईएस में दुनिया भर की टीवी बनाने वाली कंपनियों ने शिरकत की है. इनमें सैमसंग, सोनी, एलजी, शार्प और पैनासोनिक शामिल हैं. खास तौर से सैमसंग और पैनासोनिक का पलड़ा इस शो में भारी लग रहा है. 89" का स्मार्ट टीवी सैमसंग के एस9 को देखने के लिए यहां काफी भीड़ जमा हो रही है. यह टीवी यूएचडी यानी अल्ट्रा हाई डेफिनिशन तकनीक का इस्तेमाल करता है और इसकी स्क्रीन 89 इंच की है. सैमसंग का दावा है कि इस तकनीक से तस्वीरें एचडी के मुकाबले चारगुना साफ दिखती हैं. इसकी यही खासियत तस्वीरों में अनोखी जान डाल देता है. इसके अलावा अत्याधुनिक कंप्यूटर की तरह इस टीवी में क्वाड्रा कोर प्रोसेसर लगा है, जिस कारण इसे स्मार्ट टीवी का नाम दिया गया है. टीवी देखते देखते अगर दोस्तों से बात करने का मन करे या गेम खेलने का मन हो तो उठ कर फोन या कंप्यूटर तक जाने की जरूरत नहीं. सब कुछ इस स्मार्ट टीवी में हो जाएगा. सैमसंग ने इसमें पांच पैनल बनाए हैं. पहला पैनल 'ऑन टीवी' सामान्य केबल टीवी की तरह काम करता है. लेकिन यह आपके पसंदीदा कार्यक्रम को खुद ही सेव कर लेता है. जब आप टीवी देख रहे होते हैं, यह खुद ब खुद कोने में एक छोटी स्क्रीन पर देखा हुआ दूसरा कार्यक्रम भी लगा देता है ताकि आप उसे देखना भूल न जाएं. इस तरह से एक ही साथ टीवी पर कई छोटी स्क्रीन दिख सकती हैं. दूसरा पैनल है 'मूवी एंड टीवी'. इसमें भी टीवी मनपसंद फिल्मों पर ध्यान देता है. पर इस पैनल में ऑन डिमांड वीडियो चलते हैं, जिन्हें आपने अलग से पसंद किया होता है. तीसरा पैनल है 'फोटो, वीडियो एंड मूवी'. यहां आप कंप्यूटर की तरह टीवी में सेव की गयी तस्वीरें वगैरह देख सकते हैं. चौथा पैनल है 'एप्स'. यहां भी कंप्यूटर या स्मार्टफोन की ही तरह टीवी को इस्तेमाल किया जा सकता है. पांचवां और आखिरी पैनल है 'सोशल' यानी यहां आप फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब के जरिए वीडियो देख सकते हैं. ओएलईडी के फीचर यूएचडी के अलावा ओएलईडी यानी ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड की भी मेले में धूम है. इसी तकनीक पर चलने वाले सैमसंग के एफ9500 में भी अनोखे फीचर हैं. इस टीवी के सामने बैठ कर दो लोग दो अलग अलग कार्यक्रम देख सकते हैं. इसके लिए खास 3डी चश्मों की जरूरत पड़ेगी. इस टीवी की कीमत 10,000 डॉलर रखी गयी है. सैमसंग का कहना है कि उसने दुनिया का पहला ऐसा टीवी बनाया है जिसकी स्क्रीन हल्की सी मुड़ी है. इससे तस्वीरें और भी शानदार दिखती हैं. लेकिन मेले में इस तकनीक को दिखाने वाले और भी हैं. एलजी ओएलईडी टीवी बनाने वाली पहली कंपनी के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहता है. 55 इंच वाले ओएलईडी टीवी की कीमत 12,000 डॉलर है. इसी तरह पैनासोनिक भी 4के ओएलईडी टीवी लाया है. 56 इंच स्क्रीन के साथ पैनासोनिक का दावा है कि यह दुनिया का सबसे बड़ा ओएलईडी टीवी है. इसमें फेशियल रेकॉगनिशन तकनीक लगी है जो टीवी के सामने बैठे व्यक्ति के चेहरे को पहचान लेती है. इसके जरिए टीवी आपको बता सकता है कि आपके दोस्त इस वक्त क्या देख रहे हैं. ओएलईडी तकनीक वाले टीवी दूसरे टीवी के मुकाबले कईगुना पतले होते हैं. इनमें तस्वीरों के रंग बेहतरीन होते हैं और बिजली की खपत कम होती है. हालांकि इनकी कीमत देखते हुए जानकारों का मानना है कि इन्हें बाजार में जगह बनाने में समय लग सकता है. लेकिन तकनीक के शौकीन फिलहाल लास वेगास में इन चमकती तस्वीरों का लुत्फ उठा सकते हैं. यह मेला 8 से 11 जनवरी तक चलेगा. आईबी/एजेए (एएफपी, डीपीए) sabhae DW.DE

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

vigyan ke naye samachar ke liye dekhe

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

समय क्या है ? समय का निर्माण कैसे होता है?

भौतिक वैज्ञानिक तथा लेखक पाल डेवीस के अनुसार “समय” आइंस्टाइन की अधूरी क्रांति है। समय की प्रकृति से जुड़े अनेक अनसुलझे प्रश्न है। समय क्या है ?समय का निर्माण कैसे होता है ?गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से समय धीमा कैसे हो जाता है ?गति मे समय धीमा क्यों हो जाता है ?क्या समय एक आयाम है ?अरस्तु ने अनुमान लगाया था कि समय गति का प्रभाव हो सकता है लेकिन उन्होने यह भी कहा था कि गति धीमी या तेज हो सकती है लेकिन समय नहीं! अरस्तु के पास आइंस्टाइन के सापेक्षतावाद के सिद्धांत को जानने का कोई माध्यम नही था जिसके अनुसार समय की गति मे परिवर्तन संभव है। इसी तरह जब आइंस्टाइन साधारण सापेक्षतावाद के सिद्धांत के विकास पर कार्य कर रहे थे और उन्होने क्रांतिकारी प्रस्ताव रखा था कि द्रव्यमान के प्रभाव से अंतराल मे वक्रता आती है। लेकिन उस समय आइंस्टाइन  नही जानते थे कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। ब्रह्माण्ड के विस्तार करने की खोज एडवीन हब्बल ने आइंस्टाइन द्वारा “साधारण सापेक्षतावाद” के सिद्धांत के प्रकाशित करने के 13 वर्षो बाद की थी। यदि आइंस्टाइन को विस्तार करते ब्रह्माण्ड का ज्ञान होता तो वे इसे अपने साधारण …

30 सेकंड के फर्क ने मिटा दिया था डायनसोर युग का वजूद

डायनासोर युग के अंत के लिए कहा जाता है कि एक बहुत बड़ा ऐस्टरॉइड धरती से टकराया था जिससे पैदा हुए विस्फोट ने इन विशालकाय जानवरों का वजूद खत्म कर दिया। लेकिन इस विस्फोट की टाइमिंग को लेकर बीबीसी की एक डॉक्युमेंट्री में बहुत दिलचस्प तथ्य सामने आया है। द डे डायनासोर डाइड नाम की इस डॉक्युमेंट्री में बताया गया है कि जिस ऐस्टरॉइड ने डायनासोरों का अंत किया, अगर वह धरती से 30 सेकंड जल्दी (पहले) या 30 सेकंड देर (बाद) से टकराता तो उसका असर जमीनी भूभाग पर इतना कम होता कि डायनासोर खत्म नहीं होते। ऐसा इसलिए क्योंकि 30 सेकंड की देरी या जल्दी गिरने की स्थिति में वह जमीन की बजाय समुद्र में गिरता।

यह ऐस्टरॉइड 6.6 करोड़ साल पहले मेक्सिको के युकटॉन प्रायद्वीप से टकराया था जिससे वहां 111 मील चौड़ा और 20 मील गहरा गड्ढा बन गया था। वैज्ञानिकों ने इस गड्ढे की जांच की तो वहां की चट्टान में सल्फर कम्पाउन्ड पाया गया। ऐस्टरॉइट की टक्कर से यह चट्टान वाष्प में बदल गई थी जिसने हवा में धूल का बादल बना दिया था। इसके परिणामस्वरूप पूरी धरती नाटकीय रूप से ठंडी हो गई और पूरे एक दशक तक इसी स्थिति में रही। उन हालात में अधिकत…

2050 की दुनिया

आने वाली दुनिया कैसी होगी। सबकी अपनी कल्पनाएं और अंदाजे हैं। विज्ञान दुनिया को नए तरीके से देख रहा है। फिल्मी दुनिया की अपनी फंतासियां हैं। बात हो रही है 2050 की। आज की कल्पनाएं निश्चित तौर पर आने वाले वक्तके धरातल पर होंगी। संभव है दिमाग को कम्प्यूटर की फाइल के तौर पर सुरक्षित रखा जाए। यह भी मुमकिन है कि आदमी गायब होना सीख ले। 

यह है फ्यूचरोलॉजी
ऎसा नहीं है कि भविष्य दर्शन केवल फिल्मकारों की कल्पना तक सीमित है। वैज्ञानिक भी इसमें खासी रूचि ले रहे हैं। तथ्यों और पूर्वानुमानों के सामंजस्य को विज्ञान की कसौटी पर परख कर भविष्य की कल्पना एक नए विज्ञान की राह खोल रही है। यह विज्ञान है फ्यूचरोलॉजी यानी भविष्य विज्ञान। क्या भविष्य में चांद पर बस्ती बसेगी। क्या हमारा परिचय धरती से परे किसी दूसरी दुनिया के प्राणियों से होगा। क्या इंसान मौत पर विजय पाने में कामयाब हो जाएगा। नामुमकिन सी लगने वाली ऎसी कल्पनाओं का वैज्ञानिक अध्ययन भी फ्यूचरोलॉजी के तहत किया जा रहा है। जिस तरह से मौसम-विज्ञानी भविष्य में मौसम का, अर्थशास्त्री भविष्य की विकास दर और इतिहासकार अतीत की घटनाओं का तार्किक आकलन पेश करते हैं…